Posts

अलबम (भाग-1)

अलबम चेहरे पर आयु का बोझ।कमर थोड़ी झुकी हुई।आँखों पर चश्मा,ललाट पर रेखाएँ साफ दिख रही है।गंजा माथा। चेयर पर बैठे हुए।पीछे की ओर दीवार। दीवार पर टंगी हुई कैलेंडर केकुछ हिस्से फोटो में आ गए है।फोटो पिताजी की है।उसके नीचे लिखा है- श्रीयुत नगेंद्रनाथ महांती,मैंने उस नाम के पहले लिख दिया “स्वर्गीय”। घर के अंदर अब भी बिछौना बिछा हुआ है खाट पर। लाल चादर बिछा दी गई थी। पैर के पास रजाई थी, मगर ओढ़ी हुई नहीं थी, तकिए में गड्ढा हो गया था- उनके माथे के निशान अभी भी है, पान का बटुआ और बेंत की लाठी भी है। जैसे उन्हें बिछौने से उठा ले गए थे,चले गए चुपचाप बिना किसी प्रतिवाद के। कुछ दिनों से बुखार था।डाक्टर बुलाया गया। परीक्षण के बाद पता चला ‘टाइफ़ाइड’। कुछ कैप्सूल दे गये। बुखार छूट गया। उस दिन नहा-धोकर भात भी खाए थे। दिन के तीन बजे गाँव की तरफ घूमने निकले थे।इस साल आम अच्छा हुआ है